Nusrat Fateh Ali Khan Kabali King,Sufi Singer,Ruhani Awaaz,Singer of Millennium

Share:

Nusrat Fateh Ali Khan Kabali King,Sufi Singer,Ruhani Awaaz,Singer of Millennium


दोस्तों आज हम बात कर रहे हैं शहंशाह कव्वाली King of The Music सदी के सबसे बड़े महा गायक जिनकी तारीफ करना सूरज को रोशनी दिखाने जैसा है क्योंकि तर्जुमा गाने का  तरीका लयकारी अंदाज बयां  जिसकी कोई तारीफ नहीं की जा सकती कहां जाता है दिन में 6 घंटे छोड़कर बाकी रियाज में डूबे रहते हैं इसलिए कहा जाता है गायक के लिए रियाज सबसे जरूरी है | 


इनकी रूहानी आवाज और आवाज में खनक है उन्हें सुनने के लिए दुनिया के करोड़ों लोग बेताब रहते हैं इतिहास में ऐसा कोई अब तक कव्वाली और  सूफी गाने वाला महान गायक हुआ ही नहीं | कुछ लोगों का कहना है की नसरत फतेह अली खान जब अल्लाहू तान लगाते तो ऐसा लगता है कि खुदा जमीन पर जाएगा  यह सिर्फ तारीफ नहीं है 


 जो लोग सुरों की जानकारी  और सुरों के बारीकियों को समझते हैं वही बता सकते हैं किन नसरत फतेह अली खान की आवाज और सुरों में क्या जादू है | नसरत फतेह अली खान का जन्म 1948 फैसलाबाद पाकिस्तान में हुआ | नसरत फतेह अली खान को संगीत जन्म से मिल था क्योंकि उनका परिवार संगीत के घराने से ताल्लुक रखता था जब वह बड़े हुए चारों तरफ संगीत का माहौल देखा करता था |


उनके परिवार में 600 सालों से कव्वाली और सूफी संगीत का माहौल था | क्योंकि संगीत उनके लहू में था और वह चल पड़े संगीत के रास्ते में लेकिन उनके पिता यह नहीं चाहते थे कि नसरत फतेह अली खान संगीत को अपना जुनून बनाएं उनके पिताजी चाहते थे कि उनका बेटा डॉक्टर या इंजीनियर बने | लेकिन खुदा को यह मंजूर नहीं था क्योंकि उस दौर में संगीत को पैसा कमाने का जरिया नहीं माना जाता  था | लेकिन नसरत फतेह अली खान का मौसिकी से इतना लगाव था


 कि उनके पिता उसे रोक नहीं पाए | शुरुआत में संगीत की तालीम वह अपने पिता से लेते रहे लेकिन जब उनके पिता का 1964 में देहांत हो गया तो अपने चाचा उस्ताद मुबारक अली खान और सलामत अली खान तालीम लिया | 1971 में अपने चाचा मुबारक अली खान के देहांत के बाद कव्वाली पार्टी का सारी जिम्मेदारी नसरत फतेह अली खान के ऊपर आ गई नसरत फतेह अली खान अपने कव्वाली पार्टी के परंपरागत पार्टी के हेड कव्वाल बनगए | इस पार्टी का नाम नुसरत फतेह अली खान मुजाहिद मुबारक अली खान एंड पार्टी के नाम से बुलाया जाने लगा | पाकिस्तान की रेडियो शो से अपना पहचान बनाने लगे |


नसरत फतेह अली खान को पहली कामयाबी मिली कव्वाली हक अली अली अली बाद में नसरत फतेह अली खान निकली मुड़कर नहीं देखा पाकिस्तान में उनकी गायकी को खूब पसंद किया जाने लगा दुनिया के कोने कोने से लोग उनको सुनते थे हर जगह जगह जाकर वह कव्वाली प्रोग्राम करते थे इसके बाद नसरत फतेह अली खान का नाम दुनिया के कोने कोने में लोग पहचानने लगे और इंटरनेशनल प्रोग्राम करने लगे देखते ही देखते नुसरत फतेह अली खान दुनिया के सबसे बड़े कव्वाल और सूफी संगीतकार बन गए और दुनिया में आज भी उनका नाम दुनिया के सबसे बड़े कव्वाल के नाम से लिया जाता है 


दोस्तों उनकी आवाज में वो रवानगी थी जिसे सुनकर लोग मदहोश हो जाया करते थे यह कहने की बात नहीं है आप में से कोई भी अगर संगीत का जरा समझ रखते तो उनके सुर आपके दिल को छू जाएंगे 

No comments