Superstar Amitabh Bachchan को मदद की मुसीबत में Ajay Devgan ने

Share:

Superstar Amitabh Bachchan को मदद की मुसीबत में Ajay Devgan ने


बॉलीवुड की दुनिया में कभी भी किसी के ऊपर भी मुसीबत आ सकती है और यहां मदद करने वालों की बहुत ही कमी है क्योंकि सब अपने काम में व्यस्त होते हैं कोई किसी को पूछता नहीं लेकिन ऐसे भी कुछ लोग हैं जो अपने दोस्तों को कभी नहीं छोड़ते और एक दूसरे की मदद करते हैं जिसमें से एक है सुपरस्टार अजय देवगन जिन्होंने सदी के महानायक की मदद की जो काबिले तारीफ होनी चाहिए आप जानते हैं |

किस तरीके से अमिताभ बच्चन ने अजय देवगन का मदद किया यह उस वक्त की बात है 1998 की फिल्म का नाम था मेजर साहब यह फिल्म अमिताभ बच्चन की खुद की होम प्रोडक्शन को फिल्म थी इस फिल्म में एक्ट कर रहे थे खुद अमिताभ बच्चन और साथ में अजय देवगन भी थे सोनाली बेंद्रे और नफीसा अली भी इस फिल्म में काम कर रही थी इस फिल्म के डायरेक्टर थे|


अमिताभ बच्चन के फेवरेट डायरेक्टर टीनू आनंद जिन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ सुपर हिट फिल्में बनाई और अभिषेक बच्चन इस फिल्म के लिए असिस्टेंट डायरेक्टर का काम कर रहे थे यह फिल्म का हिट होना बहुत ही जरूरी था अमिताभ बच्चन के लिए क्योंकि वह अभी राजनीति से कम बैक कर रहे थे फिल्मों में वापस आने की यही वजह थी कि अमिताभ बच्चन के लिए वह फिल्म बहुत ही इंपॉर्टेंट था

लेकिन इस फिल्म के प्लानिंग करते-करते बहुत वक्त लग गया और इस पिक्चर के ऊपर अमिताभ बच्चन बहुत गंभीरता से विचार कर रहे थे वे टीनू आनंद के साथ बहुत सारे सुपरहिट फिल्में बनाई जैसे कि कालिया,  मैं आजाद हूं,सहंसा जैसे फिल्में टीनू आनंद के साथ अमिताभ बच्चन ने बनाई थी मेजर साहब के शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन एक सीन दे रहे थे |

अमिताभ बच्चन को ऐसा लगा कि इसको वापस सूट करना चाहिए अमिताभ बच्चन ने टीनू आनंद से गुजारिश कि इस सीन को हम वापस सूट करते हैं टीनू आनंद इस बात के ऊपर गौर नहीं कर रहे थे और अमिताभ बच्चन की बात को अनसुना कर रहे थे बार-बार अमिताभ बच्चन के बोलने के बाद भी टीनू आनंद ने उस सीन को वापस सूट से करने से मना कर दिया टीनू आनंद के पास टाइम कम था |


टीनू आनंद ने अमिताभ बच्चन से कह दिया कि यह सिन मेरे हिसाब से सूट होगा मैं इसे सूट करने की जरूरत महसूस नहीं करता बार-बार अमिताभ के बोलने के बाद भी टीनू आनंद इस सीन को सूट नहीं कर रहे थे अमिताभ बच्चन को जरा गुस्सा आ गया क्योंकि इस फिल्म को खुद अमिताभ बच्चन प्रोड्यूस कर रह थे | प्रोडूसर के बोलने के बाद टीनू आनंद को दोबारा शूट करनी चाहिए थी |


अमिताभ बच्चन ने गुस्से से कह दिया कि इस फिल्म का प्रोड्यूसर मैं हूं और मैं चाहता हूं कि इस सीन को फिर से सूट किया जाए टीनू आनंद ने भी वापस कह दिया कि अगर आप प्रोडूसर है तो इस फिल्म को भी आप सूट कर लीजिए इतना कहकर टीनू आनंद उस दिन मेजर साहब के सेट से वापस चले गए इसके बाद दो-तीन दिन कट गऐ लेकिन टीनू आनंद सेट पर नहीं आए अमिताभ बहुत ही ज्यादा टेंशन में पड़ गए क्योंकि उनकी होम प्रोडक्शन फिल्म थी और डायरेक्ट आ नहीं रहे थे |


और यह फिल्म पहले से ही डिले चल रही थी जबकि टीनू आनंद से बार बार संपर्क किया गया तो उन्होंने जवाब दिया कि उनकी तबीयत खराब है और डॉक्टर ने उन्हें रेस्ट करने के लिए कहा है सब कुछ तैयार था पर डायरेक्टर नहीं थे अजय देवगन से अमिताभ बच्चन की यह समस्या देखी नहीं जा रही थी तो अजय देवगन ने कहा कि अगर आप की परमिशन हो तो मैं इस फिल्म को आगे सूट कर सकता हूं मुझे फिल्म बनाने की आईडिया है और मैं सभी पोर्शन को सूट कर सकता हूं अमिताभ बच्चन एक बात कंफर्म कर रहे थे अजय देवगन को पूछा की क्या तुम यह सीन शूट कर पाओगे तो अजय देवगन ने कहा कि मैंने अपने पिताजी के साथ बहुत सारे सीन शूट किए हैं और मैं सभी सींन को शूट कर सकता हूं


अजय देवगन की बहुत अच्छे दोस्त थे और उनके साथ मदद करने को तैयार थे अजय देवगन ने कहा कि अगर कहीं पर हमें प्रॉब्लम हुई तो मैं अपने किसी भी डायरेक्टर दोस्त को बुला सकता हूं वैसे भी अमिताभ बच्चन मुसीबत में थे और फिल्म आधे में रुकी पड़ी थी तो अमिताभ बच्चन ने हां कह दिया और इस तरीके से मेजर साहब की शूटिंग जारी हो गई और सूट होकर कंप्लीट भी हो गई अजय देवगन ने अपने दोस्त रोहित शेट्टी को भी वहां पर बुला लिया ताकि उनसे भी कुछ इनपुट्स मिल जाए और दोनों ने मिलकर फिल्म को शुरू किया तो इस तरह जब अमिताभ बच्चन के दोस्त टीनू आनंद और उठकर चले गए तो अजय देवगन ने मदद किया लेकिन फिल्म उतनी चली नहीं लेकिन इस मदद का मिसाल आज भी लोग देते हैं  

No comments