Voice of God Bollywood Movie Singer K.S .Yesudas

Share:

Voice of God Bollywood Movie Singer K.S .Yesudas

Voice of God Bollywood Movie Singer K.S .Yesudas

आज हम एक ऐसी गायक की बात कर रहे हैं | जिनकी आवाज को भगवान की आवाज कहा जाता है | संगीत के जानकार कहते हैं कि भगवान को भी संगीत बहुत पसंद है | इसका उदाहरण है |कलयुग के भगवान श्री बालाजी पौराणिक कथाओं के अनुसार श्री बालाजी भगवान अपने एक भक्त को धरती पर जन्म दिया सिर्फ इसलिए कि वह सुंदर भजने अपने लिए सुन सकें |


उस भक्त का नाम था अन्नाम्या पौराणिक कथाओं के अनुसार अन्नाम्या ने अपनी पूरी जीवन में वृद्धावस्था तक श्री बालाजी भगवान के लिए | 16000 हजार श्लोक लिखी और उसे भजन के रूप दिया आज भी यह संगीत आंध्र प्रदेश के गली-गली में गूंजता है अगर आप बालाजी मंदिर के दर्शन के लिए भारत के किसी भी कोने में जाए तो आपको इनका ही श्लोक सुनाई देंगे |

यह एक उदाहरण है लेकिन भारत में ऐसी कई कहानियां है जिन कहानियों में ईश्वर संगीत और भजन से मनुष्य से खुश हो जाता है | हम हमेशा देखते हैं मंदिरों में भगवान की भजन मनुष्य प्रेम से गाता है | शायद इसीलिए कहा जाता है कि भगवान भजन और संगीत से खुश होते हैं |

ऐसा लगता है कि भगवान अपने भजन सुनने के लिए Yesudas को धरती पर जन्म दिया हो | इनका जन्म 1940 में Kochi के एक Christians परिवार में हुआ था पिता शास्त्रीय संगीतकार थे और अभिनय भी करते थे | इनका पिता का नाम था Augustine Joseph इनके पिता का मानना था कि ईश्वर एक है हम अलग - अलग नाम से पुकारते हैं |

Yesudas के पिता ने देखा बच्चे की रुचि संगीत में है उन्होंने Yesudas को संगीत सिखाना चालू कर दिया | यहां से प्रारंभ हुआ Yesudas संगीत का सफर प्रारंभिक शिक्षा कर्नाटक शास्त्रीय संगीत से हुई | सिर्फ इनके पिता से ही नहीं उन्होंने संगीत की शिक्षा और भी कई विद्वानों से लिया था | बचपन से ही संगीत की शिक्षा चालू हुई और अपने जीवन के 20 साल संगीत सीखने में उन्होंने लगाया | आजकल के सिंगर कुछ दिन अभ्यास करने के बाद अपने आप को संगीत के माहिर समझने लगते हैं |

इन्होंने बड़ी शिद्दत से संगीत की शिक्षा ली और माहिर गायक बन गए | इनकी जीवन की यात्रा ऐसे ही अभ्यास में चलती रही | अचानक से उनकी पिता की मृत्यु होगी हो गई | यह बहुत गंभीर आर्थिक तंगी से गुजरे लेकिन संगीत को अपने सीने से लगा कर रखा | लेकिन आज के तारीख में Yesudas भारत के सर्वश्रेष्ठ गायकों में एक है | कर्नाटक संगीत में इनका बहुत बड़ा नाम है | क्योंकि उन्होंने शुरुआत ही कर्नाटक संगीत सीखने से किया था |

Yesudas का पूरा नाम Kattassery Joseph Yesudas वैसे तो यह संगीत गाते थे और लगातार सफलता की ऊंचाइयां छू रहे थे | हिंदी फिल्मों में 70 के दशक में बासु चटर्जी की फिल्म जिसका संगीत अनिल चौधरी दे रहे थे इस फिल्म में एक गाना गाने का मौका मिला जो सुपरहिट रही गाने के बोल हैं | “जानेमन जानेमन तेरे दो नयन” इस गाने के बाद Yesudas हिंदी फिल्म जगत में छा गए |

सिर्फ हिंदी ही नहीं भारत के कई प्रांतीय भाषाओं में हजारों की संख्या में Yesudas गाना गा चुके है लगातार काम करते रहे | 1977 में तब उनकी उम्र सिर्फ 37 साल थी और भारत सरकार ने पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया | 1981 बनी फिल्म Chashme Baddoor जिसके गाने आज भी लोग गुनगुनाते हैं | इस फिल्म में एक गाना थी ‘कहां से आए बदरा घुलता जाए’ और यह गाना सुपरहिट रही |

इनकी सबसे जबरदस्त जोड़ी रही | Music Director Ravindra Jain के साथ इनकी सबसे मशहूर फिल्म है Chitchor यह सिलसिला लगातार चलता रहा और हजारों गाने हिंदी में Yesudas गाते रहे |  एक वाक्य बहुत मशहूर है | एक बार रविंद्र जैन को पूछा गया आप को अगर आंखों से देखने का मौका मिला तो सबसे पहले क्या देखना चाहेंगे | रविंद्र जैन ने कहा कि मैं Yesudas को देखना चाहूंगा | दोस्तों मैं खुद भी Yesudas का बहुत बड़ा Fan हूं | और इनके के बारे में लिखकर मुझे बहुत खुशी हो रही |


No comments